Income Tax Kya Hai | Section 269su Of income Tax | इनकम टैक्स क्या होता है

नमस्कार दोस्तो ! आज हम बात करने वाले है Income Tax से संबंधित। जी हाँ, यदि आप भी इनकम टैक्स क्या है नही जानते है। तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़ कर जाइयेगा। इस आर्टिकल के माध्यम से हम समझेंगे की Income Tax Kya Hai | इनकम टैक्स क्या होता है और इनकम टैक्स कैसे भरे। What is income tax in hindi से संबंधित और भी कुछ पहलुओं को जानने की कोशिश करेंगे।

Income Tax Kya Hai

यदि आप भी कुछ पैसे अर्जित करते होंगे या कमाते होंगे तो आपको पता ही होगा Income Tax kya hai. लेकिन फिर भी आपको नही पता है तो हम बता दे रहे है। Income Tax सरकार द्वारा लगाने वाली एक प्रकार का टैक्स है। इस टैक्स को सरकार की जरूरत पड़ती है।

क्योंकि Income Tax का ही उपयोग करके सरकार विकास कार्यो को करती है। इस तरह की टैक्स सभी लोगो पर नही लगाया जता है। Income टैक्स केवल उनलोगों को देना होता है जिनके पास आय का स्रोत होता है। यदि आप पैसे नही कमाते है, तो आपको इनकम टैक्स देने की जरूरत नही है। 

सरकार इसके लिए Income Tax Slab बनाती है जिसके अनुसार टैक्स देना होता है। आगे हम विस्तार से Income Tax Slab kya hai के बारे में भी पढ़ेंगे। इसका उपयोग सरकार विभिन कार्यो में करती है जैसे सड़क, बिजली, पानी इत्यादि की व्यवस्था करना।

हालांकि, Income Tax कई सारे माध्यमो से लिया जाता है। जो लोग व्यवसाय करते है उन्हें Income Tax Return File ( ITR ) करनी पड़ती है। वही कुछ लोगो के पास सरकारी या निजी नौकरी के माध्यम से आमदनी होती है। नौकरी करने वालो को ज्यादा समस्या नही होती है। क्योंकि यदि वे लोग तय सीमा से ज्यादा कमाएंगे, तो उनको Income Tax काट कर सैलरी मिलती है। 

इसीलिए आज की ये आर्टिकल आपके लिए बेहद जरूरी हो जाता है। क्योंकि यदि आप भी आमदनी की स्रोत रखते है, तो धयन देने की बात है। कही ऐसा न हो कि इनकम टैक्स न भरते हो, तो आपके यहाँ Income Tax Department की छापा भी पड़ सकता है। तो इन सभी झमेलों में पड़ने से अच्छा है कि Income Tax Kya Hai अच्छी तरह से जान लें। 

इसे भी पढ़े- Mutual Funds क्या है ?

Why Government Impose Income Tax

जैसा कि मैंने ऊपर बताया है, सरकार को विकास कार्यो को करने के लिए पैसो की जरूरत होती है। इसलिए सरकार अपनी प्रजा से कुछ पैसे मांगती है, जिसे हम Income Tax कहते है। विकास कार्यो में कई सारे कार्य आते है जैसे कि सड़क, कृषि कार्य, बिजली, शिक्षा,भोजन इत्यादि। 

इन सभी कार्यो को करने के किये ढेर सारे रकम की जरूरत होती है। जिसे सरकार जनता से वसूलती है। 

Types Of Income Tax

दोस्तो हम भारत देश के नागरिक है। और यहाँ के नागरिकों को Two Types Of Tax देने होते है। कुछ कर ऐसे होते है जो जनता सीधे सरकार को चूकाती है। सरकार द्वारा सीधे जनता से Tax लेने की कर को Direct Tax यानी कि हिंदी में प्रत्यक्ष कर कहते है। वही कुछ कर ऐसे भी होते है जो सरकार अपनी जनता से बिना दिखाए लेती है। इस तरह की करों को Indirect Tax यानी कि हिंदी में इसे अप्रत्यक्ष कर कहते है। Indirect Tax यानी कि अप्रत्यक्ष कर को देश के सभी लोगो को किसी न किसी माध्यम से चुकाना ही पड़ता है।

नीचे मैने दोनों करो के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी दे दी है। आपको इसे पढ़ लेनी चाहिए:

इसे पढ़ें:- इंटरनेट क्या है ? इसका मालिक कौन होता है ?

Direct Tax – प्रत्यक्ष कर क्या है

प्रत्यक्ष कर या Direct Tax को लोगो द्वारा भरजे जाता है। चुकी इस प्रकार के टैक्स को आंखों के सामने भरजे जाता है, इसलिए इसे प्रत्यक्ष टैक्स कहते है। इस प्रकार के टैक्स को सरकार द्वारा आपकी सैलरी से सीधे Income Tax के लिए कटौती करती है। 

इनकम टैक्स से उनलोगों के लिए छूट होती है जिनकी आमदनी कुछ भी नही या फिर तय सीमा से कम होती है। हालांकि Income Tax Slab में समय-समय पर बदलाव होती रहती है। भारत सरकार के वित्त मंत्री Income Tax में बदलाव को बजट जारी करते समय जानकारी देते है।

Direct Tax में कई सारे टैक्स आते है। जैसे कि Gift Tax, Wealth Tax, Capital Gain Tax, Securities Transaction Tax, Corporate Tax इत्यादि। यदि आपके पास कुछ आमदनी का जरिया है और आप कमाई करते है। तो सरकार द्वारा तय की गई Income Tax Slab के अनुसार Income Tax भरना ही होता है। 

Indirect Tax – अप्रत्यक्ष कर क्या है

इस तरह के टैक्स को आप नही देख पाते है। पर आप भी अप्रत्यक्ष टैक्स को किसी न किसी माध्यम से चूका रहे होते है। Indirect Tax को राज्य में हुई खपत, उत्पाद, आयात, निर्यात पर लगाया जाता है। इसे आम जनता नही देख पाता है। और न ही Indirect Tax को किसी पर्ची पर लिखा जाता है।

Indirect Tax या अप्रत्यक्ष कर को सीधे जनता से नही वसूला जाता है। पर एक तरह से देखा जाए तो इसका प्रभाव भी जनता पर ही पड़ता है। क्योंकि यदि सरकार किसी उत्पादक की उत्पाद पर टैक्स लगाता है। तो उत्पादक भी अपने उत्पाद पर ज्यादा कीमत रख कर बाजार में बेचता है। इस तरह से Indirect Tax या अप्रत्यक्ष कर का असर जनता पर ही पड़ता है।

Indirect Tax बहुत सारे माध्यमो से टैक्स लगाकर लिया जाता है। यहाँ मैंने कुछ महत्वपूर्ण Indirect Tax लिए जाने वाले माध्यमो का नाम दे रखा है। आप चाहे तो इसे पढ़ सकते है।

1. Sales Tax – बिक्री कर

2. Service Tax – सेवा कर

3. Excise Duty – उत्पाद कर

4. Value Added Tax ( VAT )

5. Property Tax – संपत्ति कर

6. Toll Tax – टॉल कर

Income Tax Slab 

बजट जारी करते समय भारत के वित्त मंत्री इस Income Tax Slab को भी जारी करते है। इस Income Tax Slab के हिसाब से ही पूरे साल टैक्स लगती है। इनकम टैक्स स्लैब में तय किया गया रहता है कि किसे कितना टैक्स चुकाने पड़ेंगे।

Income Tax Rate

यह वह डर होती है जिसके अनुसार प्रतिव्यक्ति इनकम टैक्स लिया जाता है। यह पूरी तरह आपकी आमदनी पर निर्भर होता है। यानी कि आप तय सीमा से कम कमाएंगे तो Income Tax कम देने होते है। वही आप ज्यादा कमाते है तो Income Tax ज्यादा देने होते है।

नीचे मैंने हाल ही के जारी किए गए Income Tax Slab Rate के बारे में बता दिया है। आप इस चार्ट को देख कर समझ सकते है।

Income SlabFY 2019-2020FY 2020-2021
2.5 लाख रुपये तकछूटछूट
2.5 से 5 लाख रुपये तक5%5%
5 से 7.5 लाख रुपये तक20%10%
7.5 से 10 लाख रुपये तक20%15%
10 से 12.5 लाख रुपये तक30%20%
12.5 से 15 लाख रुपये तक30%25%
15 लाख से ऊपर30%30%

How Calculate Income Tax | Income Tax Calculator

यदि आपको भी बार-बार income tax भरनी पड़ती है। और आप नही जानते कि income tax calculate kaise kare तो आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़िए। इस आर्टिकल के माध्यम से मैंने income tax calculator के बारे में बताया है। 

ऑनलाइन बहुत सारे tools मिल जाएंगे जिनकी मदद से online income tax calculate किया जा सकता है। यदि आप online income tax calculate करना चाहते है, इस tools का इस्तेमाल कर सकते है।

Income Tax Calculator – क्लिक करें

Income Tax Act

भारतीय सविंधान में भी Income Tax का जिक्र हुआ है। भारतीय सविंधान की 7वी अनुसूची में इनकम टैक्स को लेकर कानून दिया गया है। इस अनुसूची के हिसाब से सरकार उन अभी लोगो से टैक्स वसूल सकती है जिनकी आय कृषि के अतिरिक्त किसी और माध्यम से आती हो।

सरकार द्वारा विभिन्न लोगों या संस्था पर टैक्स लगाई जाती है। इस टैक्स को किस प्रकार लगाना है इसके लिए नियम कानून होता है। जिसे Income Tax Act 1961 तथा Income Tax Act 1962 में जिक्र किया गया है। 

भारतीय केंद्र सरकार की देखभाल में आने वाली संस्था CBDT – Central Board Of Direct Tax भी समय समय पर इसमें बदलाव करती है और दिशा-निर्देश जारी करती है। Income Tax Return (ITR) efilling करने के लिए CBDT – केंद्रीय प्रत्यक्ष कर द्वारा ही फॉर्म को जारी किया जाता है।

इसे पढ़े:- शेयर मार्केट क्या है और शेयर मार्केट में पैसे कैसे निवेश किया जाता है

Income Tax For Agriculture

जैसा कि मैंने पहले भी बताया है कृषि से अर्जित आय पर इनकम टैक्स नही लिया जाता है। Income Tax Act की Section 10(1) में इस बात को विस्तारपूर्वक समझाया गया है। 

Income Tax For Agriculture में आखिर किस तरह की टैक्स लगती है, इसका जिक्र Income Tax Act की Section 2(1A) में दिया गया है।

Section 269su Of Income Tax Act

हाल ही में इनकम टैक्स के नियम कानूनों में काफी बदलाव किया गया है। इस कानून में CBDT ने गाइडलाइन्स जारी करते हुए कहा है कि 1 जनवरी 2020 के बाद Online Tranaaction पर लिए गए चार्ज को बैंक तुरत ग्राहकों को भुगतान करे। 

CBDT ने अपने गाइडलाइन्स में Section 269su Of income Tax की बात करते हुए। देश के सभी बैंकों से electronic transaction या online transaction पर चार्ज न वसूलने की फरमान दिया है।

Section 269su of income tax में कई प्रकार के online transaction करने वाले माध्यम आते है। जैसे कि UPI, QR Code, Bhim UPI, Rupay Debit Card. यदि आप भी इन सभी माध्यमो से online payment करते है, तो बैंक द्वारा चार्ज नही वसूला जाएगा।

Income Tax FAQs

What Is Section 269su Of Income Tax ?

Online Transaction को बढ़ावा देने के लिए CBDT ने नियम जारी किया है कि कोई भी बैंक ऑनलाइन लेनदेन पर चार्ज नही वसूलेंगे। इस संसोधन को Income Tax Act 1961 में बदलाव करके एक नया एक्ट दिया गया है।

How To Pay Income Tax Online ?

यदि आप भी अपना इनकम टैक्स ऑनलाइन भरना चाहते है, तो इसके लिए इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की वेबसाइट पर जाना पड़ेगा। हालांकि आप यहाँ क्लिक करके भी पूरी विधि समझ सकते है।

निष्कर्ष

तो दोस्तो ये थी Income Tax Kya Hai की जानकारी। यदि आप इनकम टैक्स क्या है या इनकम टैक्स कैसे भरे से संबंधित और अधिक जानकारी की कोशिश कर रहे है। तो इस ब्लॉग की Finance Section में जाकर पढ़ सकते है।

धन्यबाद !

Leave a Comment